newage

Just another weblog

9 Posts

26 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8253 postid : 42

जनता की अदालत

Posted On: 1 Nov, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जनता की अदालत

रजत शर्मा : आज हमारे सामने है। मशहूर फिल्म अभिनेता राज कुमार सिंह, जिन्हें आप सभी लोग आर के सिंह के नाम से जानते है।

तालियों की गूंज के साथ आर के सिंह अन्दर आते है और कटघरे में बैठ जाते है।

रजत शर्मा : मैं जनता और अदालत की तरफ से आपका स्वागत करता हूं।

आर के सिंह हाथ जोडकर अभिवादन स्वीकार करते है।

रजत शर्मा : जनता की अदालत में आप पर पहला इल्जाम ये है कि आपने पांच सितारा होटल में शराब के नशे में एक आम आदमी को पीटा और नौबत यहां तक आई की उसे अस्पताल में दाखिल करना पडा?

आर के सिंह : क्या मैं दूसरे ग्रह से आया हूं। मै भी तो आम आदमी ही हूं।

रजत शर्मा : आप मशहूर अभिनेता है। लोग दिवानों की तरह आपके पीछे आते है। पत्रकार आपको आगे पीछे से घेरे रहते है।

आर ले सिंह : तो ये इल्जाम तो पत्रकारो के ऊपर होना चाहिए कि वो मेरे आगे पीछे ना घुमे।

रजत शर्मा : तो क्या आप भी अपनी छवि बेड ब्वाय के रूप में बनाना चाहते है? क्या ये मान लिया जाए कि ये आपका पब्लिसिटी स्टट है?

आर के सिंह : अगर मैं कहूं कि मैं एक महान आदमी हूं। तो क्या मै महान कहलाऊगा।

रजत शर्मा : ………………

आर के सिंह : नहीं। पर अगर मै कहूं कि मैं एक बुरा इन्सान हूं। तो क्या मैं बुरा कहलाऊगा।

रजत शर्मा : अ…म…न…।

आर के सिंह : हां। अगर मैं कहू कि मै बुरा हूं तो बुरा कह्लाऊगा। आपकी वजह से। अगर सिक्के उछालने पर चिट नहीं है तो पट तो होगा ही।

रजत शर्मा : फिल्म प्रमोट करने के लिए तो आप ही पत्रकारों को बुलाते है।

आर के सिह : बेशक। जब आपकी आवश्यता होती है तो आपको बुलाया जाता है। यह बताने के लिये कि हम एक नयी फिल्म ला रहे है, लोग आए और उसे देखे। लोग आते है देखते है। उन्हें फिल्म अच्छी लगी या नहीं लगी। उनकी प्रतिक्रिया होती है और यहां बात खत्म हो जाती है। पर आप लोग च्विंगम कि तरह हमारे पीछे चिपक जाते है। उसके बाद हमारी निजी जिंदगी शुरु होती है। हम भी आम इन्सान कि तरह जीना चाहते है घुमना चाहते है। पर आपका कैमरा हमारे पीछे पीछे घुमता रहता है।

आर के सिंह को किसी के साथ घूमता हुआ पाया गया, ब्रैकिंग न्यूज।

अब किसी बात का ज्वाब ना दे तो आपके ख्याली प्लाव। गुस्से में कुछ कह दे तो तिल का ताड।

मान भी लिया जाए हमारे बीच कुछ है तो उसे सार्वजनिक करना या निजी रखना तो हमारा अधिकार है। आपका बस चले तो हमारे टायलेट में भी कैमरा लगा के रखें। आर के सिंह रोज सुबह पाँच बजे टायलेट जाता है आज सुबह चार बजे क्यूँ गया। कहीं उसका पेट तो खराब नहीं? उसने रात को क्या खाया था? …………

लोग आपको सुनते है। क्योंकि वो आपको अपना आदर्श मानते है या आपको जोकर समझते है। वहीं आप है न्यूज़ रिपोर्टर नहीं एक जोकर। न्यूज रिपोर्टर की कुछ जिम्मेंदारी होती है क्या दिखाए या क्या न दिखाया जाए। यह भी आपको समझना चाहिए।

रजत शर्मा : हमारे ही द्वारा आदर्श घोटाला, सीडब्लयूजी, टूजी स्पेकट्रम जनता के सामने आए।

आर के सिंह : ये क्रेडिटेबल तो है पर इम्पेक्टेबल नहीं। अगर इम्पेक्टेबल होता तो वे लोग सिना तानकर समाज में नहीं चलते। बल्कि समाज में उनका बहिष्कार होता। और दूसरा कोई एक रुपया सड़क से उठाने के बाद कभी जेब में नहीं रखता बल्कि पुलिस में जाकर सरकारी खजाने में उसे जमा कराता।

पचायती राज में जब किसी का हूक्का पानी बंद कर दिया जाता है तो भिखारी भी उस घर से भीख नहीं लिया करता। ये होता है इम्पेक्ट और इसे कहते है बहिष्कार। न्यूजरूम में बहस कराकर आप इन्हें हीरो बना रहे हो।

रजत शर्मा : पर आप असली बात ही गोल कर गए। आपने पांच सितारा होटल में शराब के नशे में एक आम आदमी को पीटा और नौबत यहां तक आई की उसे अस्पताल में दाखिल करना पडा?

आर के सिह : Just like a person who reach at the moon and get awarded
for that, I should be.

Neither I drink on that day first time nor the last time. If this is a crime because I am a filmstar punish me. What can I say more than this?

I am a common man just like you. That is I wanna be. Now decision is yours.

रजत शर्मा : हमने आप पर इल्जाम लगाए और आपने उनका ज्वाब दिया। अब हम जनता का फैसला सुनना चाहेंगे। तो जूरी क्या फैसला है आपका।

जूरी : जूरी ने फैसला किया है कि आर के सिंह को बाईज्जत बरी किया जाए।

रजत शर्मा : जनता कि अदालत से आपको बरी किया जाता है क्या अपने चाहनेवालों को कोई सन्देश देना चाहेंगे।

आर के सिंह : मैंने पांच सितारा होटल में शराब के नशे में एक आम आदमी को पीटा और नौबत यहां तक आई की उसे अस्पताल में दाखिल करना पडा? मुझे दंड दिया जाए।

रजत शर्मा : मजाक अच्छा करते है आप।

आर के सिंह : मजाक तो तुमने किया है मेरे साथ इन्टेरवीयू कहकर बुलाते हो और अपमान पे अपमान करते जा रहे हो।

रजत शर्मा : समय की पाबंदी के कारण हमें ये कार्यक्रम यहीं समाप्त करना पडेगा। पर अगली बार हम मिलेंगे फिर एक नयी हस्ती से तब तक के लिए अलविदा।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran